HomeIndian Armyभारत की UN में सीट हुयी लगभग पक्की 20 देशों का जोरदार...

भारत की UN में सीट हुयी लगभग पक्की 20 देशों का जोरदार समर्थन चीन हैरान

दोस्तों जैसा की हम सभी को पता है, की आजादी के बाद ऐसा पेहली बार हुआ, जब विश्व के सबसे बडे मंच यानी United Nation Security Council का भारत प्रेसीडेंट बना हो, नहीं तो इससे पेहले यही मंच कश्मीर मुद्दे को लेकर, भारत पर दवाब बनाया करता था, लेकिन आज इसी मंच के 20 ताकतवर देश भारत की अध्यक्षता में काम करते देखे जा सकते है, भारत पुरे अगस्त महीने तक सुरक्षा परिषद की अध्‍यक्षता संभालेगा, जहा आतंकवाद विरोधी, हिंद प्रशांत क्षेत्र और कोरोना को लेकर बडे बड़े फैसले, भारत की मौजूदगी में ही लिए जायेंगे, भारत को UN की प्रेसीडेंसी मिलने से चीन पेहले से ही ना नाखुश है, लेकिन इसी बिच एक और ऐसी खबर सुनने को मिली, जिसे सुन चीन बैचेन हो उठा है.

जी हा दोस्तों हम यहाँ बात कर रहे है सुरक्षा परिषद में भारत की स्‍थायी दावेदारी की, बताया जा रहा है की UN के अध्यक्ष बन के बाद से ही, भारत की सुरक्षा परिषद में स्‍थायी सदस्‍यता की दावेदारी ने जोर पकड़ा है, काफी सारे देश भारत की सटीक विदेशनीति और गंभीर सिचुएशन में प्रतिबद्धता को लेकर बहोत खुश है, इन सभी को पता है की भारत हमेशा से आतंकवाद से लढता आ रहा है, और उसके खिलाफ हर मोर्चो में अपनी आवाज भी उठाई, इसके अलावा पर्यावरण को लेकर भी भारत काफी सक्रीय है, ऐसी बहोत सारी बात है जिससे भारत को UN का पमनेंट मेंबर बनाया जा सकता है, वैसे भारत भी सुरक्षा परिषद का स्‍थायी सदस्‍य बनने के लिए काफी वर्षों से प्रयास कर रहा है, लेकिन चीन ने हर बार अपनी वीटो पॉवर का इस्‍तेमाल कर, भारत को स्‍थायी सदस्‍य बनने से रोक दिया.

वैसे कहा जाता है की किसी भी देश को अगर UN का स्थायी सदस्य बनना है, तो उसके पास सुंयुक्‍त राष्‍ट्र के दो त‍िहाई देशों का समर्थन होना जरुरी है, इसके बाद एक वोटिंग प्रोसेस होती है जिसमे अगर वो देश जित गया, तो फिर उसे UN का स्थायी सदस्य देश बनाया जाता है, पेहले चीन के अलावा भी कई ऐसे देश थे, जो भारत की दावेदारी को लेकर ना खुश थे, लेकिन कोरोना काल में ज्यादातर देश भारत के पक्ष में गए, वैसे भी इसबार भारत ने जो दावे पेश किए उनमें काफी दम है, और पिछली बार की वोटिंग में भारत को 192 में से 184 वोट मिले थे, जो की भारत की दमदार दावेदारी को दर्शाती है, और भारत की इसी दावेदारी को देख फ्रांस, अमेरिका, रूस, ब्रिटेन यहाँ तक की चीन भी भारत को सुरक्षा परिषद का स्‍थायी सदस्‍य बनाने पर अपनी सेहमति जता चुका है.

भारत को UN का स्थायी सदस्य बनाने के बिच सिर्फ चीन ही एक रोडा था, जो की अब भारत की दावेदारी को लेकर सेहमत है, अब बस इंतजार है अगले वोटिंग प्रोसेस का, जो की इसी साल भी की जा सकती है, वैसे आपको क्या लगता है, क्या मोदीजी के रेहते भारत UN का पमनेंट मेंबर बन जायेगा या फिर नहीं निचे चैट सेक्शन में जरुर बताये.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments