HomeIndian Airforceलद्दाख में उतरी वायुसेना की स्पेशल फोर्स चीन की सांसे अटकी

लद्दाख में उतरी वायुसेना की स्पेशल फोर्स चीन की सांसे अटकी

दोस्तों लद्दाख से चीन के चिखे निकालने वाले दृश्य देखने को मिल रहे है, जी हा दोस्तों चीन ने भारत को नाराज कर कितनी बडी ग़लती की, इसका एहसास आज इंडियन एयरफोर्स ने चीन को करा दिया है, पिछले वीडियो में ही हमने इस बात को लेकर चर्चा की थी, की भारत की चेतावनी के बाद चीन गोगरा हॉट स्पिंग के सामरिक इलाके, यानी फिंगर पॉइंट 17 से पीछे हट चूका है, ना सिर्फ उसे वहा से भगा दिया गया, बल्कि उसने अपने जवानों के लिए जो बंकर्स बनवाये थे, उन्हें भी तेहेस नहेस कर दिये गये, लेकिन आज तो इंडियन एयरफोर्स ने चीन की सांसे रोकने वाला हैरतंगेज काम कर डाला, इसे देखकर चीन श्यायद ही भारत से उलझने की कोशिश करे.

दरअसल ये बात हम सभी जानते है की पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास जारी सीमा विवाद, अब धीरे-धीरे सुलझता जा रहा है, चीन भी कई मेहत्वपूर्ण जगहोँ से पीछे हट चूका है, और इसबार वो भारत के समाने कोई शर्त भी नहीं रख सका, लेकिन चीन एक शातिर्द दिमाग वाला देश है, इसीलिए भारत सीमा पर अपनी तैयारियों में किसी तरेह की ढील नहीं रखना चाहता. यही वजह है कि समय-समय पर भारतीय सेना वहां अपने हथियारों, लड़ाकू विमानों या फिर सामरिक दृष्टि से अहम प्रशिक्षण में हिस्सा लेती रेहती है, अब इसीके मद्देनजर भारतीय वायु सेना की तरफ से एक मेगा ड्रिल लद्दाख में की गयी, दरअसल न्यूज़ 18 की और से ये ब्रेकिंग न्यूज़ बताई गयी की, पेहली बार भारतीय वायुसेना की स्पेशल फोर्स ने, रविवार को लगभग 13,500 फीट की ऊंचाई पर, न्योमा एडवांस्ड लैंडिंग ग्राउंड पर चिनूक हेवी-लिफ्ट हेलीकॉप्टर से विशेष अभियान चलाने की क्षमता का प्रदर्शन किया.

बता दे की इस अभियान में खासतौर पर चिनूक और अपाचे हेलिकॉप्टर्स शामिल किये गए थे, इस अभियान के जरिये भारत ने चीन को ये दिखाने की कोशिश की, वक्त आने पर भारत लद्दाख की किसी भी पहाड़ी पर अपने मुस्तेद जवान और घातक हथियार पहोचाकर, चीन पर कार्रवाई करने के लिए तैयार है, इस अभियान में चिनूक ने न्योमा एडवांस्ड लैंडिंग ग्राउंड पर, वायुसेना की हथियार बंद स्पेशल फोर्स को उतारने का काम किया तो, तो इसी घातक हथियारों से लैस स्पेशल फाॅर्स के साथ, अपाचे हेलिकॉप्टर ने सर्च ऑपरेशन जारी रखा, खास बात तो ये रही ये की विशेष अभियान, चीन की सीमा से सिर्फ 25km की दुरी पर किया गया, हो सकता है की काफी सारे चीनी सैनिको ने इस ऑपरेशन को देखा भी होगा.

एयरफोर्स की जानकारी के मुताबिक, न्योमा एडवांस्ड लैंडिंग ग्राउंड का लद्दाख में सामरिक मेंहत्व है. यह लेह हवाई क्षेत्र और LAC के बीच महत्वपूर्ण अंतर को पाटता है, जिससे पूर्वी लद्दाख में लोगों और सैन्य सामग्री की त्वरित आवाजाही हो पाती है, इसके अलावा ये ग्राउंड दुनिया की सबसे उची छोटी पर मौजूद ,है तो यहाँ से काफी सारे चीन के मिलिट्री बेसेस पर नजर भी रखी जाती है, और यही पर एक बड़े ऑपरेशन को एयरफोर्स की और से अब कंडक्ट किया जा चूका है, ताकि वक्त आने पर कम समय में लद्दाख में भारी मात्रा में हथियार और जवान तैनात किये जा सके, वैसे इस खबर पर आप आपके क्या विचार है, चैट सेक्शन में जरुर बताये.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments