HomeIndian Airforceभारत को मिलेगी MO-9 की TOT- USA बदले में भारत को देना...

भारत को मिलेगी MO-9 की TOT- USA बदले में भारत को देना होगा बड़ा बलिदान

दोस्तों अमेरिका ने अपनी पुरानी चाल यानी अमेरिका फर्स्ट नीति को अपनाते हुए भारत को बढ़ी मुश्किल में डाल दिया, अमेरिका को पता है कि भारत की ये कमजोर नस को पकडी जाए तो श्यायद वो हमारी बात मान ले, जैसा कि हम सभी को पता है कि इन दिनों भारत सरकार अमेरिका से MQ 9 ड्रोन्स खरीदने की तैयारी कर रही है, कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक तो ये डील 21 हजार करोड़ में फाइनल भी हो चुकी है, बस इससे जुड़े कुछ कागजी दस्तावेज अमेरिका भेजने बाकी है, एक बार दोनों पक्ष इस डील को लेकर सेहमत हो गए तो अमेरिकी विदेश विभाग के फोरेजिन मिलिट्री सेल्स के तहेत इन्हें भारत के लिए बनाने शुरू कर दिए जाएंगे, भारत को आज नही तो कल ये ड्रोन मिलेंगे ही इसमे कोई दोराहे नही बल्कि अमेरिका भी चाहता है कि भारत के भी ऐसे पास ड्रोन्स होने चाहिए ताकी चीन के खिलाफ भारत अपनी पकड मजबूत कर सके लेकिन अमेरिका आज भी ये नही चाहता कि भारत रशिया से कुछ खरीदे, खासतौर पर ऐसे हथियार जो उसके F35 को निशाना बनाने में सक्षम हो, जी हा दोस्तो में यहा S400 को लेकर बात कर रहा हु, दरअसल प्रिंट न्यूज़ एजेंसी की ओर से ये खबर सुनने को मिली कि अमेरिका भारत MQ 9 की TOT देने को तैयार है बल्कि वो भारत मे ड्रोन फैसिलिटी भी लाना चाहता है, लेकिन इसके लिए वो भारत से कुछ चाहता है, जो कि है S400 की डील रद्द की जाए, जी हा दोस्तों भारत की जरूरत को देखते हुए अमेरिका हमपर सैंक्शयन्स तो नही लगा पाया लेकिन भारत को ब्लैक मेल कर वो अभी भी इस डील को रद्द कराने की पूरी कोशिश कर रहा है, कहा जा रहा है कि भारत ने इन ड्रोन्स की तकनीक को लेकर जो मांग अमेरिकी सरकार से की थी, की जनरल एटॉमिक्स DRDO के साथ मिलकर इन ड्रोन का विकास भारत मे करे तो उसके लिए अमेरिकी प्रशासन तैयार है, लेकिन इसके बदले भारत को S400 को खारिज करना होगा, अमेरिका का केहना है कि भारत रशिया से ऐसा कोई भी हथियार ना खरीदे जो नाटो के लिए खतरा बने, अगर भारत ऐसा करता है, तो MQ 9 क्या हम भारत को F35 प्रोग्राम का भी हिस्सा बना देंगे, But No रशियन वीपन्स, देखा जाए तो यहा 30 प्रिडेटर ड्रोन्स की डील पर कोई फर्क नही पड़ने वाला वो डील लगभग पूरी हो चुकी है लेकिन भारत जो ड्रोन टेक्नोलजी अमेरिका से चाहता है ताकि आगे जाकर DRDO MQ 9 जैसे घातक ड्रोन बना सके तो उसके लिए हमे S400 को भूलना होगा हालांकि इसपर भारत सरकार की ओर से अभी तक कोई प्रतिक्रिया सुनने को नही मिली लेकिन आप बताइए भारत की सुरक्षा के लिहाज से क्या सबसे ज्यादा जरूरी है S400 या फिर प्रीडेटर ड्रोन्स नीचे कमेंट जरुर करे.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments