HomeIndian Airforceदुनिया हैरान इसरो ये क्या बना रहा खुद को ही खाने वाला...

दुनिया हैरान इसरो ये क्या बना रहा खुद को ही खाने वाला रॉकेट

दोस्तों आपको यकीन नही होगा कि दुनिया की सबसे सफल स्पेस एजेंसी यानी इसरो ऐसी Futuristic स्पेस टेक्नोलजी पर काम रही है, की जिसके बारे में आप सोच भी नही सकते, जी हा दोस्तो हम सब जानते है कि नामुमकिन को मुमकिन करने में इसरो को महारत हासिल है, फिर चाहे 100 से ज्यादा सैटेलाईट्स लॉन्च करने हो बेहद कम बजट में किसी मिशन को पूरा करना हो या फिर अपने पेहले ही प्रयास में मंगल की कक्षा में प्रवेश करना हो, इसरो के लिए कोई बड़ी बात नही, लेकिन इसबार इसरो नासा ओर स्पेस X से भी आगे की सोच रहा, जी हा दोस्तो खबर के मुताबिक इसरो जो हॉलीवुड की साइंस फिक्शन मूवीज यानी स्टार स्ट्रेक जैसी फिल्में है उनमें दिखाई गई काल्पनिक तकनिकों पर काम रहा है,.

आप नवभारतटाइम्स की इस रिपोर्ट को पढिये, जिसमे लिखा गया कि इसरो एक ऐसी फ्यूचर तकनीक पर काम कर रहा कि जिसके तहेत बनने वाले रॉकेट्स अपना काम होने के बाद खुद को ही निगल लेंगे, ऐसी सैटेलाईट्स बनाई जाएंगी जिनका कार्यकाल पूरा हो जाने के बाद हो किसी शक्कर की तरेह वक्त के साथ गायब हो जाएगी, आपको बता दे कि इसरो चीफ K सिवान ने टाइम्स ओर इंडिया से बात करते हुए कहा कि वे ऐसे खास मटेरियल की तलाश में है, जो मोटर के साथ खुद को भी खत्म कर दे, K सिवन का मानना है, की दुनियाभर से जितने भी रॉकेट्स अंतरिक्ष मे भेजे जाते है वे सभी धातु से बने होते है, एकबार सैटेलाइट को लांच किए जाने के बाद या तो वो समंदर में गिर जाते है या फिर किसी कचरे के भाती स्पेस में भटकते रेहते है, जिससे समंदर को भी नुकसान हो रहा और स्पेस भी कचरे से भरा जा रहा है.

इसीलिए हम भविष्य के लिए ऐसे रोकेट्स ओर सैटेलाईट्स बनाना चाहते है जिनका काम होने के बाद उँन्हे अंतरिक्ष मे ही पूरी तरह से डिस्ट्रॉय किया जा सके, एक भी मेटल का टुकड़ा धरती पे ना गिर पाये, हम किलिंग सॉफ्टवेयर पर काम रहे है कि जिसका बटन दबाते ही कुछ Nano Particles स्पेसक्राफ्ट को खाना शुरू कर देंगे, ये ऐसी तकनीक होगी कि जिसके इस्तेमाल से राकेट के उड़ान के दौरान आयी तकनीकी खराबी को भी ठीक की जा सकेंगी ओर इन रॉकेट्स की उम्र हो जाने के बाद उँन्हे ऑटोमेटिक तरीके से डिस्ट्रॉय भी किया जा सकेगा, इसके लिए इसरो सेल्फ हीलिंग ओर सेल्फ डिस्ट्रॉय मैटेरियल्स की तलाश में है, इन लाजवाब तकनीकों के अलावा इसरो Make in Spes Concept, क्वांटम कम्युनिकेशन ओर एडवांस रेडॉर्स पर काम कर रहा है, ताकि भविष्य के लिए भारत को तैयार रखा जा सके.

तो दोस्तो इसरो के इन लाजवाब प्रोजेक्ट्स के लिए जय हिंद जरूर लिखियेगा.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments