HomeIndian Navyरूस ने हमें धोका दिया- चीन भारत को दे रहा New Age...

रूस ने हमें धोका दिया- चीन भारत को दे रहा New Age Technology

दोस्तों सचमे चीनी मीडिया में मातम फैलाने वाली खबर देखने को मिली, चीन पेहली अतिरिक्त ब्रह्मोस लॉन्चर्स से परेशान है, हाल ही में CDS के बयान पर भी चीनी विदेशीमंत्रालय के प्रवक्ता भड़क उठे थे, ओर कहा था कि भारत चीन को बेवजह युद्ध के लिए उकसा रहा, खैर ये तो हर कोई जानता है कि भारत के हर एक कदम से चीन परेशान हो जाता है भारत सरकार की स्टेटमेंट्स उसे राज नही आती, भारत अपनी रक्षा हेतु LAC पे जो हथियारों की डिप्लॉयमेंट कर रहा है वो तक चीन से देखी नही जाता, जबकि खुद इतने सारे हथियार LAC पे जमा कर रहा है, की दक्षिण चीन सागर के बाद चीन की ज्यादातर मिलिट्री LAC पे ही पेहरा दे रही है, इसमे कोई शक नही की चीन कभी भारत को ऊपर उठते नही देखेगा, लेकिन भारत के कुछ ऐसे मित्र देश है जो आज भी भारत की मदद करने दौडे चले आते है.

जी है दोस्तों यह में बात कर रहा हु भारत के सबसे पुराने दोस्त रूस की आप सभी जानते है कि अगले महीने के 6 तारीख को रूसी राष्ट्रपति पुतिन भारत दौरे पर आएंगे कोरोना काल के बाद ये दोनों की पेहली मुलाकात होगी, इसीलिये भारत रूस की ये 2+2 मीटिंग काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है, क्योकि इसमे बडी डील्स जो होनी है, यहा तक कि रूस की ओर से ऐसा बयान सुनने को मिला कि जिसे देख चीन मीडिया चीख उठी, दरअसल खबर के मुताबिक पुतिन के भारत यात्रा के दौरान रूस भारत के साथ एक बड़ा कॉन्ट्रैक्ट साईन करने की सोच रहा है, अगर ये कॉन्ट्रैक्ट साईंन हो गया तो समझ लीजिए भारत के डिफेंस सेक्टर में चार चांद लग जायेंगे दरअसल बताया जा रहा है कि इस 2+2 वार्ता में रूस भारत अगले 10 सालों के लिए जॉइंट मिलिट्री टेक्नोलॉजी अग्रीमेंट पे हस्ताक्षर कर सकते है जैसे कि हाल ही में भारत ने इजराइल के साथ किया.

इस अग्रीमेंट के तहेत रूस भारतीय सेना को New Age Technology मुहैया कराएगा, मतलब आप मान के चलिए की रूस भारत को अकुला क्लास की नुक्लेअर पोवेरेड सबमरीन से लेकर फ्यूचरिस्टिक हाइपरसोनिक मिसाइल्स तक बनाने में मदद करेगा और वैसे भी नेवी की परमाणु सबमरीन्स के निर्माण के लिए किसी ऐसे देश की तलाश में जो बड़ी तादाद में इनको ऑपरेट करता हो, इसके अलावा और भी ऐसे हथियार है जिन्हें रशिया के साथ मिलकर कम समय मे तैयार किये जा सकेंगे, जैसे कि हेवी डयूटी बॉम्बर, वर्ल्ड क्लास असॉल्ट राइफल्स, हेविली आर्मर मेन बेटल टैंक ओर हाइपरसोनिक मिसाइल्स, तो आप बताईये अगर पुतिन ने यह अग्रीमेंट भारत के साथ करना चाहा तो उसपर हमारा जवाब क्या होना चाहिए हा या ना आपको क्या लगता है नीचे कमेंट करयेगा जय हिंद.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments