HomeIndian Navyफ्रांस ने रूस-चीन के पसीने छुडा दिये भारत के लिए उतारी हेवी...

फ्रांस ने रूस-चीन के पसीने छुडा दिये भारत के लिए उतारी हेवी Nuke सबमरीन

दोस्तों ये बात हम सब जानते है कि जबसे ऑस्ट्रेलिया ने फ्रांस के साथ अपनी अरबों डॉलर की सबमरीन की डील रद्द करके अमेरिकी सबमरीन्स का चुनाव किया तबसे फ्रांस और ऑस्ट्रेलिया मानो एक दूसरे के जानी दुश्मन बन चुके है, फ्रांस तो पेहली ही केह चुका है कि वो ऑस्ट्रेलिया के साथ कभी किसी तरेह की डिफेंस नही करेगा, हालांकि उसे ऑस्ट्रेलिया को नीचा भी दिखाना है, इसीलिए कहा जा रहा कि फ्रांस की ओर से भारत को ऐसी ऑफर दी जाएगी जो अमेरिका ने तक ऑस्ट्रेलिया नही दी होगी जी हा दोस्तो यहा पे बात हो रही नुक्लेअर अटैक सबमरीन्स की.

ये बात हर कोई जानता है कि हिन्द महासागर में अपनी ताकत बढ़ानी है और चायनीज नेवी से आगे निकलना है, तो नेवी के पास परमाणु सबमरीन्स का जंगी बेडा होगा काफी जरूरी है, वैसे भारत भी न्यूक्लियर सबमरीन्स बनाने के लिए किसी पार्टनर की तलाश में है लेकिन अभी तक कोई ढंग का पार्टनर मिल ना सका लेकिन इसी बीच ये खबर सुनने को मिली कि इसी हफ्ते फ्रांसीसी रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ले भारत आने वाले है, वो आने तो वाले है हिन्द प्रशांत क्षेत्र को लेकर होनी वाली मीटिंग को अटेंड करने लेकिन सलाहकारों की तरफ से कहा जा रहा है कि इसी मीटिंग में फ्रांस की तरफ से भारत को न्यूक्लियर सबमरीन प्रोग्राम का भी प्रस्ताव दिया जाएगा, देखा जाए तो इस समय भारत परमाणु सबमरीन्स के लिए रूस पे ही निर्भर है, लेकिन रूस कोई नई टेक्नोलॉजी देने को तैयार नही, भारत आज भी सोवियत संघ में बनी रशियन सबमरीन्स इस्तेमाल कर रहा है.

लेकिन फ्रांस AUKUS डील का बदला लेने भारत को अपनी सबसे ताकत सबमरीन यानी Suffren Class की परमाणु सबमरीन्स की तकनीक तक साझा करने पे विचार कर रहा है, भारत पेहले ही फ्रांस के साथ मिलकर कलवरी क्लास की पनडुब्बियां बना रहा, ओर नेवी के लिए जो 6 न्यूक्लियर पोवेरेड सबमरीन्स का प्रस्ताव पास किया गया, उसमे सबसे बड़े दावेदार के तौरपर फ्रांस ही आगे है, बताया जाता है कि फ्रांस के पास ऐसे न्यूक्लियर रिएक्टर है जिनका इस्तेमाल कर भारत की सबमरीन्स कई महीनों तक गेहरे समंदर पे छिपी रेह सकती है, वैसे आपको क्या लगता है अगर फ्रांस के रक्षा मंत्री भारत को सबमरीन प्रोग्राम की ऑफर देते है जो वो ऑस्ट्रेलिया को नीचा दिखाने जरूर देंगे तो क्या हमें उसे स्वीकार करनी चाहिए, या फिर रूसी सबमरीन्स ही ठीक है नीचे कमेंट जरुर करे.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments