HomeIndian Armyनमो बम का केहेर भारत से 44000 बम मंगाए

नमो बम का केहेर भारत से 44000 बम मंगाए

90 का दौर था जब कारगिल युद्ध मे स्वीडेन की बोरफोर्स गन्स ने पाक जिहादियों की हालत खराब कर दी थी, इस तोप ने ना सिर्फ उँन्हे भागने पे मजबूर किया, बल्कि कारगिल युद्ध में भारत को विजय दिलाने में बोफोर्स गन्स का एहम योगदान भी रहा है, ओर आज भी ये यरोपियन गन्स भारतीय सेना बड़ी शान ने इस्तेमाल करती है, लेकिन में आज आपको वो न्यूज़ बताऊंगा जिसे देखकर कोई नही बोलेगा की भारत हथियार निर्यात में किसी से पीछे है, क्योकि आज भारत ने उसी देंश को अपने घातक बम बेचे जिसने हमे कारगिल युद्ध के लिये बोफोर्स तोप दी थी, जी हां दोस्तो बात भारत स्वीडेन के डिफेंस डील को लेकर हो रही है, जिसने ऐशिया में भारतीय हथियारों की एक अलग ही छाप छोड़ दी है,

दरअसल इन दिनों एक खबर काफी चर्चा में है जो कि है भारत द्वारा स्वीडेन को बम सप्लाई करना, आपको बता दु की मध्य प्रदेश में स्थित जबलपुर जिले की आयुध निर्माणी फैक्ट्री खमरिया ने

40 MM का एंटी एयर क्राफ्ट बम पेहली बार भारत के मित्र ओर यरोपियन देश यानी स्वीडन को एक्सपोर्ट किया है, जो खुद बडा हथियार निर्यातक देश है, भारत ने जिस बम को स्वीडेन को बेचा, उसका नाम है Nordic Ammunition यानी नमो बम, आप इसे 40 mm वाला anti-aircraft bomb भी केह सकते है या फिर anti-aircrafts गन्स में इस्तेमाल किये जाने वाले 40mm के शेल्स भी केह सकते है, स्वीडेन ने इसे खासकर अपनी बोफोर्स L60 गण के लिए खरीद है, जिसे द्वितीय विश्वयुद्ध की सबसे कारगर एन्टी एयरक्राफ्ट गण कही जाती है,

इस बम की खासियतों की बात करे, तो इसे मल्टी पपस यूटिलिटी विकल्स या ऑटोमैटिक ग्रेनेड लॉन्चर से भी फायर कर सकते है, इस बम पर खास तरेह के हाई टेक सेंसर्स लागये गए है जो हर तरेह के ड्रोन, हेलिकॉप्टर्स या कम उचाई पर उडान भर रहे फाइटर जेट्स की पहचान करके उँन्हे निशाना बना सकते है, मौजूदा बमो से नमो बम 50 फीसदी कारगर ओर विध्वंसक बताये जा रहे है, क्योकि इसमें plastic-bonded explosive यूज़ किये है,

जो कि RDX से 3 गुना विनकाशकारी है, इसकी रेंज 40km तक बतायी जा रही है, मतलब इसके जरिये हम दुश्मन के अवाक्स प्लेस को भी निशाना बना सकते है, सेना ने जो इसके जबलपुर टेस्ट सेंट्रर में परीक्षण किए उसमे ये 100 फीसदी खरे उतरे, तभी तो स्वीडेन ने 1 2 नही तो पूरे 44 हजार नमो बम भारत से खरीदे,

जो दिखाता है की भारत के हथियार भी अब किसी से कम नही, हो सकता की स्वीडेन की इतनी बड़ी खरीद के बाद ओर भी यूरोपियन या ऐशियाई देशों से हमे ऑडर्स मिले, वैसे भी पूरी दुनिया जानती है कि भारतीय हथियार सस्ते भी है और कारगर भी, खैर इसपर आपकी राय है नीचे कमेंट करके जरुर बतायेगा.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments